मंगलवार, 30 अप्रैल 2013

चंद शेर



लफ्ज़  पढना  तो  मेरी  आदत  है
तेरा  चेहरा  किताब  सा  क्यों  है
************************
वफा के बदले में मांगी जो मैने उनसे वफा
कहा उन्होंने कि पत्थर पे गुल नही खिलते
*******************************
रात देखी है पिघलती हुई जंजीर कोई
मुझे बतायेगा इस ख्वाब की ताबीर कोई
*******************************
ना जाने क्यूँ हर इम्तिहान के लिए
जिन्दगी  को  हमारा  पता  याद  है
******************************


                                              अनजान शायर





5 टिप्‍पणियां:

  1. आज की ब्लॉग बुलेटिन आज के दिन की ४ बड़ी खबरें - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. वफा के बदले में मांगी जो मैने उनसे वफा
    कहा उन्होंने कि पत्थर पे गुल नही खिलते-------
    वाह जीवन के मर्म की बात
    सुंदर अनुभूति


    आपके विचार की प्रतीक्षा में
    आग्रह है मेरे ब्लॉग में भी सम्मलित हों
    jyoti-khare.blogspot.in
    कहाँ खड़ा है आज का मजदूर------?

    उत्तर देंहटाएं